मिलना इत्तिफाक था, बिछड़ना नसीब था
Created by

मिलना इत्तिफाक था, बिछड़ना नसीब था;
वो उतना ही दूर चला गया जितना वो करीब था;
हम उसको देखने क लिए तरसते रहे;
जिस शख्स की हथेली पे हमारा नसीब था।

This Post has
14050 views
0 comment
© 2017 - हिंदीशायरी.com